Technology System कभी भी किसी शिक्षक का स्थान नहीं ले सकती - माइक्रोसॉफ्ट के CEO सत्या नडेला (Satya Nadela)

Technology System कभी भी किसी शिक्षक का स्थान नहीं ले सकती - माइक्रोसॉफ्ट के CEO सत्या नडेला (Satya Nadela)

माइक्रोसॉफ्ट के CEO सत्या नडेला (Satya Nadela): का मानना है कि शिक्षा वह राह है जिस पर इंसान अपनी तकदीर बदलने के लिए चलता है।

शिक्षा ही वह माध्यम जो व्यक्ति की तकदीर का निर्धारण करता है और शिक्षा के माध्यम से ही आप अपने परिवारों के सदस्यों के बीच तालमेल स्थापित कर सकते हैं किसी व्यक्ति का तकदीर शिक्षा के द्वारा ही बदला जा सकता है।

लेकिन किसी उचित शिक्षा को पाने के लिए योग्य व शिक्षकों का होना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि यह कहा जाता रहा है बिना गुरु के ज्ञान सम्भव ही नहीं होगा।

आजकल हमारे आस पास के बदलते माहौल में शिक्षक की जगह लोग Technology को ही अपना शिक्षक मानने पर तुले हुए हैं और यह Technology System ही कुछ हद तक एक शिक्षक का स्थान ले रहा है।

किन्तु कोई भी Technology System शिक्षण कार्य को आसान बना सकती उसे व्यवस्थित तरीके से सहेज सकती है लेकिन आपके अंदर आत्म विश्वास नहीं जगा सकती है और न ही आपके अंदर दृढ़ भावना जागृत कर सकती है।

हम तकनीकी क्षेत्र में भलें ही काफी आगे निकल गये हों किन्तु हमारे अंदर मानवीय चेतना, बुद्धिमता, भावनात्मक स्पर्श हमें किसी भी तकनीकी से नहीं प्राप्त होगा।

CEO सत्या नडेला ने बताया की उन्होंने कई देशों की यात्राएं की और काफी लोगों से मुलाकातें हुई और हमने यह भी देखा की लाभ सभी देश काफी सम्पन्न हो चुकें हैं।

हमने देखा जिस देश में शिक्षकों की संख्या कम है वहाँ शैक्षिक माहौल उतना अच्छा नहीं है और जिस देश में पर्याप्त मात्रा में शिक्षकों की संख्या है उसका माहौल उच्च श्रेणी का हो चुका है।

यहाँ गौर करने वाली बात यह है कि Technology System तो सबके पास है लेकिन यह अंतर क्यों दिख रहा है ?

आपको यह बात पता होनी चाहिए क्या कोई Technology System आपके अंदर की भावना को पहचान सकती है क्या आपके अंदर छिपे टैलेंट को देख सकता है।

इन प्रश्नों के उत्तर में यह ही कहा जा सकता है नहीं क्यों कि यह किसी भी Technology System के बस कि बात नहीं इसीलिए लिए शायद शिक्षकों कों भगवान भगवान कहा जाता है।

-सत्या नडेला के यह विचार माइक्रोसॉफ्ट के मंच पर दी गई स्पीच 'इम्पॉर्टन्स ऑफ एजुकेशन' व अन्य भाषणों से लिए गए हैं।