पदोन्नति पाने की कतार में नौ विकास खंडों के 1,551 परिषदीय शिक्षक

 


अंबेडकरनगर : बेसिक शिक्षा विभाग के परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में तैनात शिक्षकों को प्रमोशन की खुशी मिलने वाली है। विभाग ने बहुप्रतीक्षित प्रमोशन की कवायद शुरू की है। प्राथमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापक के पद पर प्रमोशन दिया जाएगा। पांच वर्ष की सेवा पूर्ण किए शिक्षक ही लाभान्वित होंगे। सितंबर 2023 तक उनके सेवाकाल की गणना में की जाएगी। शिक्षकों को प्रमोशन देने को स्कूलों में खाली पदों को चिन्हित में किया जाने लगा है। नौ विकासखंड में 1551 शिक्षक प्रमोशन पाने की कतार के में लगे हैं। रिक्त पदों के सापेक्ष इन्हें प्रमोशन मिलेगा।


प्रधानाध्यापक के 283 पद खत्म एक परिसर में प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों को बेसिक शिक्षा विभाग ने एकाकार करते हुए कंपोजिट उच्च प्राथमिक विद्यालय बना दिया है। यहां प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक के पद खत्म हो गया है। यहां 283 ऐसे विद्यालयों को कंपोजिट उच्च प्राथमिक विद्यालय बना दिया गया है। विकासखंड अकबरपुर में 60, बसखारी में 24, भीटी में 27, भियांव में 25 जहांगीरगंज में 32, जलालपुर में 20, कटेहरी में 34, रामनगर में 27, टांडा 32 एवं टांडा नगर में दो प्राथमिक विद्यालयों का उच्च प्राथमिक विद्यालय विलय किया गया है। लिहाजा प्राथमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक यह पद खत्म हो गए है।


 प्राथमिक विद्यालयों के सहायक शिक्षकों के प्रमोशन पर इसका सीधा प्रभाव पड़ने वाला है। वहीं उक्त विद्यालयों में तैनात रहे सभी प्रधानाध्यापकों को उच्च प्राथमिक विद्यालय में सहायक अध्यापक बनने से प्राथमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों के प्रमोशन पर भी असर दिखेगा। दोनों पदों पर प्रमोशन करने की दशा में यह बाधा नजर आएगी। प्राथमिक विद्यालयों में तो 857 प्रधानाध्यापक अधिक हैं। वहीं उच्च प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापक के 188 पद ही रिक्त दिखते हैं। ऐसे में अधिकांश शिक्षकों को प्रमोशन की खुशी से वंचित होना पड़ सकता है।


भरवाए जा रहे प्रारूप

विकासखंड भियांव में 168, टांडा में 192, अकबरपुर में 275, जलालपुर में 218, जहांगीरगंज में 136, रामनगर में 119, भीटी में 108, कटेहरी में 170 तथा बसखारी में 165 शिक्षक प्रमोशन के मानकों में आए हैं। हालांकि शासन ने वरिष्ठता सूची तैयार करने के लिए बीएसए कार्यालय को दोबारा मौका दिया है। निर्धारित प्रारूप पर शिक्षक का नाम, पदनाम, जन्मतिथि, नियुक्ति तिथि 30 सितंबर 2023 तक सेवा की अवधि, विद्यालय का नाम, शैक्षिक योग्यता, प्रशिक्षण, पांच वर्ष की गोपनीय प्रविष्टि तथा अंतिम जेष्ठता क्रमांक मांगा है।


 चरित्र पंजिका एवं संबंधित अभिलेख मानक अनुरूप मिलने पर चयन कमेटी के समक्ष रखा जाएगा। वरिष्ठता सूची तैयार करने से बीएसए को इसके त्रुटिरहित होने का प्रमाणपत्र भी देना होगा। बीएसए भोलेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि समस्त खंड शिक्षा अधिकारियों को वरीयता सूची उपलब्ध करते हुए परीक्षण कर अद्यतन का निर्देश दिया गया है।