एकीकृत बीएड- एमएड डिग्री वाले भी बन सकेंगे शिक्षक



पटना : शिक्षा विभाग ने कक्षा छह से आठ के स्नातक कोटि के शिक्षक अभ्यर्थियों के लिए संशोधित अर्हता जारी की है। विभाग ने कहा है कि पूर्व में निर्गत अधिसूचना में शिक्षकों की अर्हता को समाहित करते हुए 19 मई 2023 के आदेश को संशोधित किया गया है।


विभाग ने नई अधिसूचना में यह साफ किया गया है कि न्यूनतम 50 प्रतिशत अंकों के साथ बीसीए तथा प्रारंभिक शिक्षा में द्विवर्षीय डिप्लोमा, बीएड, बीएड विशेष शिक्षा, न्यूनतम 55 प्रतिशत अंकों के साथ अथवा उसके समकक्ष ग्रेड के साथ एमसीए और तीन वर्षीय एकीकृत बीएड एमएड भी इस नियुक्ति के योग्य होंगे। इसके अथवा में राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (मान्यता मानदंड तथा क्रियाविधि) विनियम, 2014 के तहत इंजीनियिरंग से स्नातक (जिसमें विज्ञान और गणित की विशेषता हो) तथा बीएड भी योग्य माने जाएंगे। अथवा में बीएससी (बायोटेक्नोलॉजी) एवं बीएससी (इलेक्ट्रॉनिक्स) तथा बीएड को भी शामिल किया गया है। पूर्व में जारी अधिसूचना को लेकर कई ने आवेदन दिये थे, जिसके बाद संशोधित अधिसूचना जारी की गई।


पटना : छह जिलों के नए शिक्षकों को स्कूल आवंटित

पटना। शिक्षा विभाग ने राज्य के जिलों के नए शिक्षकों को स्कूल आवंटित कर दिया है। इनमें वैशाली, शेखपुरा, कैमूर, कटिहार, किशनगंज और शिवहर जिले शामिल हैं। शेष जिलों के शिक्षकों को स्कूल आवंटित करने की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। विभाग की तैयारी है कि दो दिनों के अंदर सभी जिलों के शिक्षक को यह बता दिया जाए कि उन्हें किस स्कूल में योगदान देना है। हो कि विभाग ने सभी जिलों पहले ही निर्देश दिया है कि नवम्बर तक सभी नवनियुक्त शिक्षकों का योगदान पूर्ण हो जाए।