Bpsc Teacher: शिक्षकों के घर 10 दिन पहले मनी दीवाली, देखें पूरी कहानी

 


राज्य के 1,20,336 परिवारों को दीवाली के 10 दिन पहले ही सराकरी नौकरी की खुशियां मिली हैं. गुरुवार को 25 हजार परिवारों के प्रतिनिधि विद्यालय अध्यापक के रूप में राजधानी पटना के गांधी मैदान में मौजूद रहे. राज्य के 1,20,336 परिवारों को दीवाली के 10 दिन पहले ही सराकरी नौकरी की खुशियां मिली हैं. गुरुवार को 25 हजार परिवारों के प्रतिनिधि विद्यालय अध्यापक के रूप में राजधानी पटना के गांधी मैदान में मौजूद रहे. इनके हाथ में नियुक्ति पत्र थे. पूरे समारोह स्थल में आत्मविश्वास से परिपूर्ण अध्यापकों की टोली का अनुशासन देखने योग्य था. देश में ऐसा पहली बार हुआ, जब एक विज्ञापन से निकली नियुक्ति की सूचना से 1.20 लाख 336 नियुक्त शिक्षकों को एक ही दिन नियुक्ति पत्र दिया गया.


गांधी मैदान में आयोजित शिक्षक नियुक्ति समारोह में सारे विद्यालय अध्यापक उत्साह से लबरेज दिखे. चेहरे पर खुशी साफ झलक रही थी. कइयों के आंखें नम थीं. खासकर उनकी आंखें, जो कई बार असफल हो चुके थे. सबसे ज्यादा उत्साह में महिला अध्यापकों में दिखीं, जो पंडाल में सबसे आगे और सबसे अधिक संख्या में थीं. नव नियुक्त महिला शिक्षक में गजब का उत्साह था. सर्वाधिक महिला अध्यापक 20-24 साल की उम्र की थीं. आत्म निर्भर होने की खुशी का यह आलम था कि वक्ताओं की हर सकारात्मक बातों पर उनकी तालिया नहीं रुक रही थीं. आयोजन स्थल पर सेल्फी का दौर भी चला. महिलाओं में नियुक्तियां समाज के सभी वर्गों की थीं. कई महिला अध्यापक अपने छोटे-छोटे बच्चों के साथ नुियक्ति पत्र लेने आयीं थीं. साफ लग रहा था कि उनकी सफलता किसी की गिफ्ट नहीं, अपनी मेहनत और मेधा से हासिल की है.


अध्यापकों में दिखा गजब का अनुशासन

नव नियुक्त शिक्षकों में गजब का अनुशासन दिखा. कार्यक्रम स्थल पर सभी कतारबद्ध पहुंचे. वापसी भी गरिमापूर्ण तरके से की. कार्यक्रम स्थल से उनको दो किलोमीटर दूर पड़ाव स्थल पर पहुंचना था. 25 हजार शिक्षकों का समूह कार्यक्रम स्थल से कैसे अपने गंतव्य को रवाना हो गया, पता तक नहीं चला. दरअसल कहीं जाम और अफरातफरी नहीं दिखी.


पहला नियुक्ति पत्र मिला पटना की पूनम को

गांधी मैदान में नवनियुक्त शिक्षकों के नियुक्ति पत्र वितरण समारोह में 35 शिक्षकों को मंच से औपबंधिक नियुक्ति पत्र बांटे गये. इनमें से 10 शिक्षकों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद नियुक्ति पत्र दिया. उनके अलावा उप मुख्यमंत्री मंत्री तेजस्वी यादव, वित्त मंत्री विजय चौधरी, ऊर्जा मंत्री बिजयेंद्र प्रसाद यादव, भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी और शिक्षा मंत्रीप्रो चंद्रशेखर ने पांच-पांच शिक्षकों को नियुक्ति पत्र बांटे हैं. सबसे पहले पटना की पूनम कुमारी को नियुक्ति पत्र दिया गया


केके पाठक व अतुल प्रसाद ने खूब बटोरीं तालियां

समारोह में शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक और बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष अतुल प्रसाद ने खूब तालियां और वाहवाही बटोरीं. इनकी तारीफ सीएम नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव तक ने की. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंच से अपर मुख्य सचिव पाठक की प्रशंसा की. उनकी तरफ मुखातिब होते हुए कहा कि आपको सबसे ज्यादा तालियां मिल रही हैं. इस पर हमें खुशी है. कोई-कोई लोग तमाम तरह की बातें करते हैं. आप ठीक काम कर रहे हैं. मुख्यमंत्री ने बीपीएससी की भी तारीफ की. इससे पहले उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव और बीपीएससी की प्रशंसा की.


किसी ने बैंक की नौकरी छोड़ी तो किसी ने रेलवे की

कार्यक्रम के दौरान विभिन्न राज्यों से बिहार में आकर शिक्षक बने लोगों ने अपना संदेश वीडियो के माध्यम से दिया. इनमें से कई लोग बैंक, रेलवे, सैनिक, अर्द्धसैनिक बल के साथ अन्य निजी कंपनियों की नौकरी छोड़ करराज्य में शिक्षक बने हैं. पटना हा


पटना हाई स्कूल में मिला नियोजित शिक्षकों को नियुक्ति पत्र

नियोजित शिक्षक जिन्होंने बीपीएससी में सफलता पायी, वे गांधी मैदान में आयोजित नियुक्त पत्र वितरण समारोह में शामिल नहीं हो पाये. इन शिक्षकों को अलग से पटना हाइस्कूल नियुक्त पत्र दिया गया. पटना जिले में नियोजित शिक्षकों की संख्या 15 सौ है.


पहले होगी ग्रामीण स्कूलों में औपबंधिक नियुक्ति

न व नियुक्त विद्यालय अध्यापकों को तत्काल ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यालयों से संबद्ध (टैग ) किया जाना है. इसे औपबंधिक नियुक्ति माना जायेगा. संबंधित स्कूलों में यह शिक्षक पढ़ायेंगे. इसके बाद जरूरी आवासीय प्रशिक्षण के लिए शिक्षकों को भेज दिया जायेगा. स्कूलों में टैग करने की प्रक्रिया छह से 10 नवंबर तक चलेगी. यहां नव नियुक्त शिक्षक पढ़ायेंगे. सभी डीइओ को यह कवायद करनी है. स्थायी नियुक्तियां बहुत जल्द की जायेंगी. शिक्षा विभाग ने इसके लिए सभी डीइओ को दिशा निर्देश जारी किये हैं. शिक्षकों को 13 से 18 नवंबर तक बीआरसी में उपस्थित रहना होगा. इस दौरान उन्हें ऑरिएंटेशन प्रोग्राम में भाग लेना होगा. इसका कार्यक्रम भी जारी करदिया गया है. खास बात यह होगी कि नव नियुक्त शिक्षकों को श्रम, राजस्व, मनरेगा, लेखा और शिक्षा विभाग की विभिन्न योजना से अवगत कराया जायेगा. ऑरिएंटेशन कार्यक्रम दो सत्रों में होगा.