CTET या स्टेट TET, जानें किस परीक्षा का सर्टिफिकेट हैं ज्यादा मान्य, मिलेगी सरकारी नौकरियां

 


अगर आप टीचर्स के तौर पर अपना करियर बनाना चाहती हैं और कंफ्यूजन में हैं कि CTET या स्टेट TET में से कौनसा बेस्ट ऑप्शन हैं, सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (CTET) और टीचर


एलिजिबिलिटी टेस्ट (TET) ये दोनों परीक्षाएं हैं जो प्राथमिक और उच्च-प्राथमिक स्तरों पर पढ़ाने के लिए उम्मीदवारों की योग्यता का आकलन करती हैं। जो उम्मीदवार सरकारी स्कूलों में शिक्षक के पद पर आवेदन करना चाहते हैं, उनके लिए इन परीक्षाओं में से किसी एक में पास होना अनिवार्य है। CTET और TET परीक्षा क्या एक जैसी है या दोनों में कुछ अंतर हैं?

सबसे पहले तो आपको बता दें, CTET परीक्षा का सर्टिफिकेट, TET परीक्षा के सर्टिफिकेट की तुलना में अधिक मान्य माना जाता है। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा क्यों है।


ऐसा इसलिए है क्योंकि CTET 2023 एक केंद्र सरकार की परीक्षा है, जिसका अर्थ है कि इस परीक्षा का सर्टिफिकेट सभी राज्यों के लिए मान्य है। दूसरी ओर, TET परीक्षा का सर्टिफिकेट केवल उसी राज्य के लिए मान्य होती है जिसमें वे आयोजित की जाती है।


इस प्रकार, यदि कोई उम्मीदवार केंद्र सरकार के स्कूल या सीबीएसई से एफिलिएटेड स्कूल में पढ़ाने में रुचि रखता है, तो CTET उनके लिए सबसे अच्छा विकल्प है। वहीं अगर कोई उम्मीदवार किसी राज्य के सरकारी स्कूल में पढ़ाने में रुचि रखता है, तो उसे उस राज्य के लिए TET परीक्षा देनी चाहिए जिसमें वह पढ़ाना चाहता है।


CTET या स्टेट TET, जानें- कौनसा ऑप्शन है बेहतर ऑप्शन


CTET परीक्षा: सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (CTET) एक नेशनल लेवल की परीक्षा है। इस परीक्षा का आयोजन सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) की ओर से साल में दो बार किया जाता है। बता दें, वर्तमान में CTET जनवरी 2024 सेशन के लिए आवेदन की प्रक्रिया चल रही है। जो उम्मीदवार आवेदन करना चाहते हैं, उन्हें आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर जाना होगा।


स्टेट TET परीक्षा


टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (TET) एक स्टेट लेवल की परीक्षा है। जो CTET के समान है। यानी इस परीक्षा में सफल होने के बाद आप टीचर के पद पर आवेदन करने के योग्य हो जाती हैं। हालांकि ये सीबीएसई नहीं, बल्कि विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा आयोजित की जाती है। जैसे कि UPTET, MAHA TET, REET, बिहार - STET, PSTET, MP TET, KTET, TNTET और अन्य ।


TET परीक्षा में पास होने के बाद, उम्मीदवार संबंधित राज्य सरकारों द्वारा संचालित स्कूलों में पढ़ाने के लिए एलिजिबल हो जाते हैं। हालांकि वह KVS और NVS जैसे केंद्रीय विद्यालयों में शिक्षण नौकरियों के लिए आवेदन करने के लिए एलिजिबल नहीं होते हैं।


CTET और स्टेट TET के लिए शैक्षणिक योग्यता


सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (CTET) और टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (TET) दोनों परीक्षाएं हैं, जिनका सर्टिफिकेट सरकारी स्कूलों में टीचर के पद के लिए योग्य होने के लिए आवश्यक हैं। हालांकि, दोनों परीक्षाओं के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतर हैं।


CTET के बारे में जानते हैं


- सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (CTET) का आयोजन साल में दो बार सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) की ओर से किया जाता है।


- CTET नोटिफिकेशन साल में दो बार जारी किया जाता है, में जबकि TET नोटिफिकेशन राज्य के आधार पर साल में एक या दो बार जारी किया जाता है।


- जबकि TET नोटिफिकेशन राज्य के आधार पर साल में एक या दो बार जारी किया जाता है।


- CTET परीक्षा के लिए आवेदन करने के लिए कोई ऊपरी आयु सीमा नहीं है, लेकिन विभिन्न राज्य सरकारों की ओर से आयोजित होने वाली TET परीक्षा के लिए अलग-अलग आयु सीमा तय की जाती है। वहीं जो उम्मीदवार CTET परीक्षा में शामिल होते हैं, उनके पास परीक्षा की भाषा चुनने का ऑप्शन होता है, जबकि TET के लिए उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों को मूल भाषा में परीक्षा देना होता है।


- नेशनल काउंसिल ऑफ टीचर एजुकेशन (NCTE) द्वारा CTET और TET दोनों सर्टिफिकेट की वैधता को जीवन भर के लिए बढ़ा दिया गया है।


- दोनों परीक्षाओं के लिए पात्रता मानदंड समान हैं। उम्मीदवारों के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन की डिग्री और B.Ed या D.El.Ed किया हो।