यूपी में हवा व धुंध के साथ छाए रहेंगे बादल, IMD ने दी जानकारी

 


UP Weather AQI Today: धीरे-धीरे यूपी में ठंड बढ़ रही है। कई शहरों में कोहरे की चादर है तो कई शहरों को धुंध ने ढंक रखा है। बढ़ते प्रदूषण के कारण छाई धुंध से सांस के मरीजों की समस्या बढ़ सकती है। ठंड का असर बढ़ने के साथ ही हवा भी कम चल रही है। जहां कुछ शहरों में कोहरे से सुबह हो रही है तो कई शहरों में दिनभर धुंध की परत छाई रही। हवा कम होने से प्रदूषण के नन्हे कण हवा में बरकरार हैं।

इससे आसमान में धूल-धुएं की परत छाई रही। मौसम विभाग के अनुसार ठंड और बढ़ने के आसार हैं। साथ ही केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार कई शहरों में प्रदूषण स्तर सर्वाधिक रहेगा। दिल्ली से सटे शहरों में इसका ज्यादा असर है। नोएडा, गाजियाबाद और ग्रेटर नोएडा की हवा सबसे ज्यादा खतरनाक हो गई है।


वहीं प्रदूषण की बात केरं तो पोस्ट मानसून सर्वेक्षण के अनुसार वायु गुणवत्ता पिछले साल की तुलना में बेहद खराब है। भारतीय विष विज्ञान अनुसंधान संस्थान हर बार मानसून के पहले और बाद में वायु गुणवत्ता और शोर के लिए सर्वेक्षण कराता है। मानसून बाद सितम्बर से अक्तूबर तक लखनऊ में नौ जगहों पर सर्वेक्षण की रिपोर्ट संस्थान ने जारी की। कई शहरों में एक्यूआई 400 के पार है तो कई शहर 350 के पार पहुंच गए हैं। हवा में धुंध के साथ स्मॉग छाए रहने से सांस के मरीजों को समस्या हो सकती है।


सुधार के लिए सुझाव


- बीएस-4 अनुपालित,इलेक्ट्रिक, बायोडीजल, सीएनजी या हाइब्रिड वाहनों का उत्सर्जन नियंत्रित हो।


- सड़कें बार-बार काटने,खोदने से बचें।


- सड़कों पर पानी छिड़काव, झाड़ू लगे।


- ई-वाहन चार्जिंग स्टेशन बढ़ाए जाएं।


- जहां प्रदूषण का भार ज्यादा हो वहां फॉगिंग जरूर कराई जाए।


- कचरा, कूड़ा, भवन निर्माण सामग्री को ढक कर रखें और उनका परिवहन हो।


- प्लास्टिक, कूड़ा आदि जलाने से बचें।