Online उपस्थिति पर विरोध के बीच महानिदेशक की सख्ती शुरू, सातों जिलों के बीएसए से मांगा स्पष्टीकरण

 


 लखनऊ। बेसिक विद्यालयों में शिक्षकों की रियल टाइम उपस्थिति को लेकर चल रहे विरोध के बीच सख्ती भी शुरू हो गई है। काफी कम संख्या में रियल टाइम उपस्थिति पर विभाग ने सातों जिलों लखनऊ, हरदोई, लखीमपुर खीरी, रायबरेली, सीतापुर, उन्नाव और श्रावस्ती के बीएसए से स्पष्टीकरण मांगा है। दरअसल इन जिलों में 20 नवंबर से रियल टाइम उपस्थिति दर्ज कराने की प्रक्रिया शुरू की गई है। शिक्षक इसका विरोध कर रहे हैं। मंगलवार को भी शिक्षकों ने अधिकतर जगह पर विरोध दर्ज कराया। वहीं, उत्तर प्रदेशीय माध्यमिक शिक्षक संघ के सर्वे में मंगलवार को सीतापुर में 7,291, श्रावस्ती में 1,935, रायबरेली में 1,186, लखनऊ में 720 और हरदोई में 2,769 शिक्षकों ने रियल टाइम उपस्थिति पर अपनी असहमति व्यक्त की है।


दूसरी ओर महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद ने शिक्षकों की ऑनलाइन उपस्थिति काफी कम होने पर बीएसए से स्पष्टीकरण मांगा है। दो जिलों में पहले दिन यह शून्य प्रतिशत रहा है। वहीं, कुछ जगह एक तो कुछ जगह चार फीसदी ही रियल टाइम उपस्थिति दर्ज हुई है। इसके लिए क्यों न उनका उत्तरदायित्व निर्धारित किया जाए। उन्होंने यह भी कहा है कि बीएसए ने डिजिटल पंजिका को लेकर शिक्षकों को प्रेरित नहीं किया। उन्होंने इस पर बीएसए से सभी संबंधित जिलों के शिक्षकों से लिखित जवाब मांगा है।