यूपी में शीतलहर जारी, अगले चार दिन नहीं निकलेगी धूप; छायेगा घना कोहरा




उत्तर प्रदेश में शीतलहर का प्रकोप जारी है। मौसम विभाग के अनुसार फिलहाल अगले चार दिन मौसम में किसी खास बदलाव के आसार नहीं हैं। इन चार दिनों के दरम्यान प्रदेश में कहीं बहुत घना और कहीं घना कोहरा छाया रहेगा। धूप नहीं निकलेगी, कुहासा बना रहेगा। शनिवार को प्रदेश में सबसे ठण्डा दिन कानपुर में रहा, जहां दिन का तापमान सामान्य से 11 डिग्री कम दर्ज किया गया। चुर्क में शुक्रवार की रात सबसे ठंडी रही। जहां पारा 2.8 डिग्री सेल्सियस पर दर्ज हुआ। बलिया में रात का तापमान सामान्य से पांच डिग्री कम यानि पांच डिग्री दर्ज किया गया।


वाराणसी में रात का तापमान सामान्य से चार और प्रयागराज में सामान्य से कम तीन डिग्री कम रहा। बीते 24 घंटों के दौरान पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कुछ स्थानों पर घना कोहरा छाया रहा। पूर्वी अंचल में अनेक स्थानों पर हल्के से मध्यम कोहरा बना रहा। कहीं-कहीं बहुत घने कोहरे का भी प्रकोप रहा। शनिवार को अयोध्या और मेरठ मंडल में दिन के तापमान में काफी कमी दर्ज की गई। शुक्रवार की रात सबसे कम 2.8 डिग्री सेल्सियस तापमान चुर्क में दर्ज किया गया। प्रदेश के वाराणसी मण्डल में रात का तापमान सामान्य से काफी कम, प्रयागराज में सामान्य से कम दर्ज किया गया।


पूर्वांचल के चार जिलों में ठंड ने रिकॉर्ड तोड़ा 

पूर्वांचल में शनिवार सबसे ठंडा दिन रहा। चार जिलों में रिकार्ड टूट गए। सोनभद्र में अब तक का सबसे कम 2.08 डिग्री न्यूनतम तापमान रिकार्ड किया गया। वहीं जौनपुर में 3.09, भदोही में 4.03, वाराणसी में 4.06 डिग्री न्यूनतम पारे ने अब तक के सारे रिकार्ड तोड़ दिए।


रात और दोपहर में बराबर सर्दी 

लखनऊ में दिन का अधिकतम तापमान 11.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जनवरी में इतना कम अधिकतम तापमान इसके पूर्व 2018 में रहा था। तब 11.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। न्यूनतम तापमान 8.1 डिग्री सेल्सियस रहा। अधिकतम तापमान सामान्य से 10 डिग्री कम दर्ज किया गया है। शनिवार को लगातार दूसरा दिन रहा जब कि सूर्य के दर्शन नहीं हुए। कड़ाके की सर्दी ने अधिकतम और न्यूनतम तापमान के बीच में अंतर भी कम कर दिया। रात और दोपहर में सर्दी बराबर थी लगभग। न्यूनतम और अधिकतम तापमान के बीच मात्र 3.0 डिग्री का अंतर रहा। दिन में भी जगह जगह लोग अलाव तापते दिखे। कई जगह तो दो पहिया सवार अलाव देखकर रुक गए। गलन लगातार बनी रही। बर्फीली हवा के आगे खुद को सर्दी से बचाने के इंतजाम नाकाफी दिखाई पड़े। स्वेटर, जैकेट, दस्ताने दो पहिया पर चलने वालों को नाकाफी लग रहे थे। उच्च हिमलायी इलाकों से हो कर आ रही पछुआ की गति भी तेज रही.


सर्द दिन का अलर्ट

अमौसी स्थित मौसम केन्द्र ने रविवार को भी सर्द दिन की स्थिति रहने का अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के अनुसार ऊपरी वायुमंडल में जेट स्ट्रीम और निचले वायुमंडल में हवा की गति न्यूनतम होने से यह स्थिति बनी हुई है। ऐसे में दिन का तापमान तो कम रहेगा ही, रात के तापमान में और गिरावट होने का अंदेशा है। रविवार को अधिकतम तापमान 16 और न्यूनतम 8 डिग्री के आसपास रह सकता है। 


प्रयागराज में सामान्य से पांच डिग्री कम पारा

उधर, प्रयागराज में भी सर्दी का सितम जारी है। शनिवार को दोपहर बाद हल्की धूप निकली, गलन के आगे बेअसर रही। दिन का पारा सामान्य से करीब पांच डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया। इसके कारण लोगों को ठिठुरन से राहत नहीं मिल सकी। शनिवार की सुबह धुंध छाई रही। लगभग ग्यारह बजे तक इसका असर रहा। दोपहर करीब एक बजे धूप निकली, लेकिन शीतलहर के कारण राहत नहीं मिली। अधिकतम तापमान 24 घंटे पहले के 15.0 डिग्री से 1.3 डिग्री उछाल के साथ 16.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह अपने जनवरी महीने के औसत 22.2 डिग्री सेल्सियस से 5.9 डिग्री कम दर्ज किया गया।


लखनऊ मौसम विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक मोहम्मद दानिश का कहना है कि प्रयागराज में दिन का तापमान इस समय सामान्य से कम है। इसकी वजह से दिन भी ठंडा रह रहा है। आने वाले दो दिनों तक प्रयागराज में सर्दी ऐसे ही रहने के आसार हैं। इसके बाद ही तामपान में कुछ उछाल आ सकता है। इधर, न्यूनतम तापमान में कोई खास बढ़ोतरी नहीं हो सकी। यह एक दिन पहले के 6.0 डिग्री से आंशिक उछाल के साथ 6.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो जनवरी महीने के औसत 8.8 डिग्री से 2.5 डिग्री सेल्सियस कम है।


नैनी में बुजुर्ग की मौत

कोतवाली क्षेत्र स्थित नगर निगम जोन पांच के समीप शनिवार रात सर्दी से 65 वर्षीय बुजुर्ग की मौत हो गई। स्थानीय लोगों के मुताबिक बुजुर्ग कई दिनों से क्षेत्र में मांगकर अपनी अजीविका चलाता था। रात में वह अलाव ताप रहा था, उसी दौरान उसकी मौत हो गई। लोगों के मुताबिक, बुजुर्ग ठंड से कांप रहा था। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।


पूर्वांचल में गिरा दिन और रात का तापमान 

पूर्वांचलवासियों को सर्दी के सितम से फौरी राहत मिलती नजर नहीं आ रहीं। यूरोप की तरफ से आ रही सर्द हवाओं के कारण एक बार फिर पूर्वांचल में पारा गिर गया है। घना कोहरा छा गया। हवा में नमी बढ़ गई है। इसके कारण गलन का अहसास लोगों को फिर से होने लगा है। मौसम में बदलाव के कारण दिन और रात का तापमान भी नीचे लुढ़क गया है। लखनऊ स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक मोहम्मद दानिश ने बताया कि यूरोप की तरफ से सर्द हवाएं आ रही हैं। यह उत्तर भारत से लगायत पूर्वी यूपी में ठंड को बढ़ा दिया। इन सर्द हवाओं के कारण एक बार फिर से सर्दी सितम कहर बरपाने लगी है। शुक्रवार को कोहरा छंटा था। कुछ देर के लिए सूरज निकला था। शनिवार को एक बार फिर मौसम का मिजाज सर्द हुआ।


शनिवार को दोबारा घना कोहरा आसमान में छा गया। करीब 11 किलोमीटर की रफ्तार से बर्फीली पछुआ हवाएं चली। हवा में नमी भी बढ़कर 83 फीसद तक पहुंच गई। शनिवार को अधिकतम तापमान 15.4 डिग्री सेल्सियस रहा है। यह सामान्य से करीब छह डिग्री सेल्सियस कम है। वहीं रात का न्यूनतम तापमान नौ डिग्री सेल्सियस रहा। यह शुक्रवार के मुकाबले करीब एक डिग्री सेल्सियस नीचे लुढ़का है। मौसम विशेषज्ञ ने बताया कि जेट स्ट्रीम का असर अभी तीन दिनों तक बना रहेगा। हिमालय से टकराने के बाद यह हवाएं वापस लौटेंगी। इसके कारण ठंड बनी रहेगी।